topbanner1.jpg homepage contactus faq tenders RTI rfd ICARWEBsite ICARWEBsite DMRHOME DMRHOME DMRHOME DMRHOME EnglishWebsite HindiWebsite

 

Untitled
  • ????? ?????
  • ???? ?? ????? ???
  • ????? ??????
  • ??????
  • ?????????
  • ??????? ?????
  • ??????
सोलन - भारत का खुम्ब शहर

हमारा अधिदेश

सोलन का सामान्य जलवायु

वैज्ञानिकों की सूची

तकनीकी बुलेटिनों

लिफलेट/फोल्डर

दी जाने वाली सेवायें

मशरूम प्रशिक्षण

विस्तार गतिविधियां

मशरूम मेला

पुस्तकालय

जर्नल्स/मैगजीन:

पत्रिकाए

किसानों के लिए

प्रगतिशील किसान

सफलता की कहानी

प्रतिक्रया (फीड बैक)

सरकारी स्पोन (खुम्ब बीज) आपूर्तिकर्ता

अक्सर पूछे जाने वाले प्रशन

हमारा पता

निदेशक

 

राष्ट्रीय खुम्ब अनुसंधान एवं प्रशिक्षण केन्द्र, सोलन में छठी पंचवर्षीय योजना के 1-1दौरान 1983 में भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (भा.कृ.अनु.परि.) के तत्वधान में (जिसका नाम बाद में बदल कर राष्ट्रीय खुम्ब अनुसंधान केन्द्र रखा गया) अखिल भारतीय खुम्ब सुधार परियोजना जो कि छः राज्यों की विभिन्न कृषि विश्विद्यालयों में तथा जिसका मुख्यालय सोलन में रखा गया,  अस्तित्व में आया। केन्द्र का विधिवत उदघाटन 21 जून, 1987 को डा. गुरदयाल सिंह ढिल्लों, उस समय के केन्द्रीय कृषि मंत्री व अध्यक्ष भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद द्वारा किया गया। इसको उच्चीकरणोंपरांत खुम्ब अनुसंधान निदेशालय दिनांक 26 दिसम्बर, 2008 को किया गया। इसकी स्थापना का मुख्य उदेश्य खुम्ब के हर पहलू पर अनुसंधान करना व प्रशिक्षणार्थियों तथा उत्पादकों को पर्शिक्षण प्रदान करना था।  वर्तमान में अखिल भारतीय खुम्ब अनुसंधान समन्वयन परियोजना  के 14 समन्वित व 2 सहकारिता केन्द्र देश  के 15 राज्यों में अपने क्षेत्रों में सर्वे, नई खुम्ब किस्मों को एकत्रित करना, अनुसंधान करना व खुम्ब की यथा काल व्यवस्था करना व उनकी प्रजातियों को देश की विभिन्न जलवायु के अनुसार निरीक्षण करना और खुम्ब अनुसंधान निदेशालय में विकसित तकनीक का परीक्षण करना इसके ध्येय हैं। 

अपने अस्तित्व के 29 वर्षों के अतीत में निदेशालय ने देश में मशरूम अनुसंधान व  विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। निदेशालय के वैज्ञानिकों के ठोस प्रयासों द्वारा मशरूम उत्पादकता देश में लगभग दौगुनी हुई है और उत्पादन में छः गुना वृधि दर्ज की गई है। वर्तमान में निदेशालय खुम्ब का संग्रह, पहचान के लक्षण, संरक्षण और अनुवंशिक मशरूम जर्मप्लाजम, उच्च उत्पादकता किस्मों का विकास, विभिन्न खाद्य मशरूमों की उत्पादन तकनीकों में सुधार,  नई स्पेस्लटी मशरूम की उच्च प्रौद्योगिकी का विकास, एकीकृत कीट और रोग प्रबंधन, विभिन्न खुम्ब के पस्च फसल तकनीकियों व प्रशिक्षणार्थियों, उद्यमियों, उत्पादकों, बेरोजगार युवाओं व  महिलाओं के लिए प्रशिक्षण प्रदान करने का कार्य कर रहा है।

© DMR All rights Reserved

 हिन्दी रूपान्तरण द्वाराः श्री दीप कुमार ठाकुर